ठंड में जोड़ों के दर्द से मुक्ति दिलाने की अचूक दवा है अजवाइन, जानें फायदे

Spread the love

अपने एंटीऑक्सीडेंट और एंटी बैक्टीरियल गुणों के कारण अजवाइन जहां गैस बनने, पेट दर्द, सर्दी-जुकाम जैसी तकलीफों के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली कारगर जड़ी-बूटी है। एंटीऑक्‍सीडेंट और जलनरोधी तत्‍व पाए जाते हैं, जो न सिर्फ छाती में जमे कफ से छुटकारा दिलाते हैं बल्‍कि सर्दी और साइनस में आराम देते हैं। खासकर खासकर सर्दी में होने वाली समस्याओं को दूर करने में अजवाइन कारगर है- 

 

बुखार होने पर अजवाइन के फायदे 
सर्दी-जुकाम से होने वाले बुखार में 5 ग्राम अजवायन और 1 ग्राम गिलोय का रस 100 मिली लीटर पानी में रात को भिगोकर रखें। सुबह पानी छानकर इसमें थोड़ा सा नमक मिलाकर पीने से आराम मिलेगा। बुखार में होने वाली घबराहट में 5 ग्राम अजवायन 50 मिली लीटर पानी में उबाल कर छान लें। आधा-आधा पानी 2 घंटे के अंतराल में पी लें, लाभ होगा।

 

गठिया के दर्द से राहत दिलाती है अजवाइन 
सर्दियों में गठिया से सूजन और दर्द काफी बढ़ जाते हैं। जोड़ों में दर्द होने पर 50 मि.ली. तिल के तेल में 10 ग्राम अजवायन डाल कर हल्की आंच पर उबालें। ठंडा होने पर इस तेल से मालिश करें। 20-20 ग्राम अजवायन और मेथी के दाने पीस कर एक पतले कपड़े में बांध कर एक पोटली बना लें। इस पोटली को तवे पर गर्म करके प्रभावित जगह पर सावधानी के साथ लगाएं। एक बर्तन में अजवाइन के कुछ बीज पानी में उबालें। उस पानी में एक कपड़े को गीला कर दर्द वाली जगह की सिकाई करें। अजवायन के बीज थोड़े से पानी में पीस कर बनी पेस्ट प्रभावित जगह पर लगाने से भी राहत मिलती है।

 

 

खांसी-जुकाम से छुटकारा दिलाए
एक कप छाछ के साथ एक चम्मच अजवायन खाने से सर्दी-जुकाम के कारण बनने वाले कफ से राहत मिलती है। एक चम्मच अजवायन के दानों को हाथ से मसल कर बारीक कर लें और इसे थोड़े से गुड़ के साथ मिलाकर टॉफी की तरह चूसकर सेवन करें। एक मुलायम कपड़े में थोड़ी सी अजवायन डाल कर पोटली बना लें। इसे तवे पर गर्म कर सीने की सिकाई करने से जल्दी आराम मिलता है।

 

पीरियड्स के दर्द से छुटकारा 
कई महिलाओं को पीरियड्स के वक्‍त कमर और पेट के निचले हिस्‍से में बहुत दर्द होता है। ऐसे में गुनगुने पानी के साथ अजवाइन लेने से दर्द में आराम मिलता है. इस बात का ध्‍यान रखेें कि अजवाइन की तासीर गर्म होती है और अगर ब्‍लड फ्लो ज्‍यादा हो इसका इस्‍तेमाल नहीं करना चाहिए।


Source link

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *