Coffee की लत आपको ऐसे पहुंचाती है नुकसान, जानें इसके साइड इफेक्ट्स और छोड़ने के तरीके

Spread the love

नई दिल्ली: कॉफी (Coffee) में पाया जाने वाला कैफीन (Caffeine) शरीर को तुरंत ऊर्जा तो देता है लेकिन वह हेल्थ (Health) को नुकसान भी पहुंचाता है. कुछ लोगों को ब्लैक कॉफी या ब्लैक टी पीने की आदत होती है. कॉफी एक तरह से लत ही होती है क्योंकि इसका लोगों के ऊपर एक नशा सा होता है.

कुछ लोग कॉफी ही दिन की शुरुआत करते हैं. अगर आप भी ऐसा करते हैं तो आपको इससे होने वाले नुकसान के बारे में भी जानना चाहिए. अध्ययन दर्शाते हैं कि कॉफी पीने से बैचेनी, गुस्सा, चिड़िचिड़ापन आता है. हालांकि कॉफी पर कई शोध हो चुके है, लेकिन इससे जुड़े कई संशय लोगों के दिमाग में होते है. एक कप कॉफी में 60 से 70 ग्राम कैफीन होती है. अस्थाई तौर से यह आपके दिमाग में स्फूर्ति ला देता है और ऊर्जा का स्तर बढ़ा देता है.

कैफीन की वजह से किसी व्यक्ति के शरीर में डोपामाइन (Dopamine) का प्रोडक्शन तेज हो जाता है. यही वजह है कि कॉफी का सेवन करने वाले लोग अकसर चिड़चिड़े, गुस्सैल हो जाते है. इसके अलावा उन्हें नाड़ी में दर्द जैसी शिकायतें देखने में आती है. हालांकि कैफीन का इस्तेमाल मेडिकल में भी किया जाता है. अकसर कई लोगों को कॉफी की आदत पड़ जाती है, इसका सेवन न कर पाने पर उन्हें आलस्य और सिरदर्द (Headache) जैसा महसूस होता है.

कॉफी पीने वालों को तीन श्रेणियों में बांटा जाता है. पहले वह जो कि रोजाना एक से दो कप कॉफी पीते है. दूसरे वो, जो रोजाना तीन से चार कप कॉफी पीते है, तीसरे वह जो कि प्रतिदिन पांच से ज्यादा कप कॉफी पीते है. अगर आप कम कॉफी पीते है, तो इसका प्रभाव आपके कॉफी लेने की मात्रा, उम्र, लिंग और किसी व्यक्ति की संवेदनशीलता पर निर्भर  करता है. रोजाना 500 मिग्रा कैफीन का सेवन करना सेहत के लिए हानिकारक होता है. ऐसे में आप कॉफी पीने की अपनी सीमा 250 ग्राम करें. ऐसे में अगर आप अपनी कॉफी की आदत को छोड़ना चाहते हैं, तो इन टिप्सों (Tips) को अपनाकर आप आराम पा सकते है.

ये भी पढ़ें, दफ्तर जाना शुरू कर दिया है तो इस Lifestyle को अपना कोरोना से बचें

-प्रतिदिन छह से आठ गिलास पानी प्रतिदिन पिएं.
-आप हर्बल चाय का सेवन कर सकते हैं, इसमें न तो कैफीन होती है और न ही ब्लैक टी.
-आप अपनी डाइट में एल्कलाइन तत्वों की मात्रा बढ़ाए. इसमें सब्जियां, सूप, सोया उत्पाद, अंकुरित भोजन आदि.
-खाने में मीट, चीनी और मैदा की मात्रा कम करें.
-विटामिन और खनिजों की मात्रा बढ़ाएं. कुछ खनिज जैसे कि कैल्शियम, मैग्नीशियम, जिंक और पौटेशियम आपके लिए काफी लाभप्रद हो सकते है. 

सेहत की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 




Source link

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *