Daughter’s Day: बेटियों के सपनों को दें उड़ान, जानें क्यों बनाया जाता है बेटी दिवस और क्या है इसका महत्व 

Spread the love

वो शाख है ना फूल,
अगर तितलियां ना हों,
वो घर भी कोई घर है
जहां बच्चियां ना हों.
आज घर की रौनक और गर्व का दिन यानी बेटी दिवस (daughter’s day) है। बदलते परिवेश में भारत में बेटियों के प्रति नजरिए को लेकर बहुत बदलाव आया है लेकिन अभी भी भार त को बेटी के महत्व को समझने के लिए एक लम्बा रास्ता तय करना है।केवल आज के दिन ही नहीं, बल्कि आज से आप बेटियों के महत्व को समझते हुए उनके सपनों को उड़ने के लिए पंख दे सकते हैं।कोशिश करें, कि आप बेटियों के अस्तित्व को तलाशने में उनकी मदद करें। आइए, जानते हैं डॉटर्स डे पर कुछ जरूरी बातें- 

 

क्यों मनाया जाता है डॉटर्स डे 
बेटियों के लिए खास प्यार जताने के लिए डॉटर्स डे मनाया जाता है। सिर्फ बेटियों के लिए ही नहीं, बेटा (Son’s Day, 11 August), मां (Mother’s Day, 10 May), पिता (Father’s Day, 21 June) और यहां तक की दादा-दादी (Grandparent’s Day) के लिए भी साल में एक खास दिन रखा गया है।

 

भारत में क्यों मनाया जाता है डॉटर्स डे 
हालांकि, भारत में बेटी दिवस मनाने की एक खास वजह बेटियों के प्रति लोगों को जागरुक करना। इस दिन बेटी को न पढ़ाना, उन्हें जन्म से पहले मारना, घरेलू हिंसा, दहेज और दुष्कर्म से बेटियों को बचाने के लिए भारतीयों को जागरुक करना है। उन्हें यह समझाना कि बेटियां बोझ नहीं होती, बल्कि आपके घर का एक अहम हिस्सा होती हैं।

 

बेटी दिवस के संदेश 
खिलती हुई कलियां है बेटियां
मां बाप का दर्द समझती है बेटियां
घर को रोशन करती है बेटियां
लड़के आज हैं तो आने वाला कल है बेटियां
Happy Daughters Day 2020

 

सूरज बनने के बाद भगवान के पास जो रौशनी बची
उसे बेटी बना कर हमारे घर भेज दिया
Happy Daughters Day 2020

 

बेटियां बाप की आंखों में छिपे ख्वाब को पहचानती हैं,
और कोई दूसरा इस ख्वाब को पढ़ ले तो बुरा मानती हैं
Happy Daughters Day 2020

 

बेटी की हर ख्वाहिश पूरी नहीं होती,
फिर भी बेटियां कभी भी अधूरी नहीं होतीं

 


Source link

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *