HTLS 2020 : आगे महामारियों के लिए कैसे रहना होगा तैयार, एम्स निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने बताया 

Spread the love

HTLS 2020 : वैश्विक महामारी कोविड-19 की चुनौतियों के बीच हिन्दुस्तान टाइम्स की 18वीं लीडरशिप समिट की शुरुआत आज से हो गई। आज समिट के पहले दिन कोरोना महामारी की जटिलता और वैक्सीन की उपलब्धता से जुड़े मुद्दों पर एम्स के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया और  डॉ आशीष के झा (डीन, ब्राउन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ) कई अहम जानकारी दी। 

कोरोना वायरस का पहला चरण जिस तरह भयावह रहा, उसे देखकर इस महामारी के खतरे का अंदेशा लगा लिया गया। कई सावधानियां रखने के बाद भी विश्व के कई देशों में कोरोना वायरस के बढ़ते हुए मामले देखे गए। गंभीर स्थिति को देखते हुए सभी के मन में सवाल आता है कि कोविड19 महामारी से छुटकारा कब तक मिलेगा? कोरोना वायरस की वैक्सीन की बात करें, तो भारत समेत कई देश प्रभावी वैक्सीन पर काम कर रहे हैं। उम्मीद की जा रही है कि आने वाले साल में वैक्सीन उपलब्ध हो जाएगी और इस महामारी पर काबू पा लिया जाएगा।

इस महामारी से मुक्ति के बाद भी विश्व को महामारियों के लिए तैयार रहते हुए इससे लड़ना सीखना होगा,  यह कहना है एम्स के निदेशक डॉ। रणदीप गुलेरिया का, जिन्होंने – 90 के दशक में बर्ड फ्लू महामारी का जिक्र करते हुए बताया कि  उस समय में बड़ी मात्रा में पोल्ट्री में मृत्यु हुई थीं। वहीं, एच1एन1 वायरस की बीमारी भी बेहद खतरनाक थी। ऐसे में हम पीछे देखें तो पता चलता है कि कई महामारियां आएंगी और हमें इसके लिए तैयारी रखनी होगी। जब आप लोगों को संक्रमण नियंत्रण सिखा रहे हैं, तो स्वच्छता कर्मियों तक को ट्रेन करना होगा। वहीं, महामारी के प्रति जागरुकता और रोग प्रतिरोधक क्षमता जैसे कई पहलू हमें महामारियों से लड़ने के लिए मजबूत बनाएंगे। 

हिन्दुस्तान टाइम्स 18वीं लीडरशिप समिट वर्चुअल 19 नवंबर से 11 दिसम्बर तक चलेगा, जिसमें अलग-अलग दिन कार्यक्रम अनुसार कई दिग्गज समिट में शामिल होंगे। वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए इस साल की समिट का केंद्रीय विषय ‘डिफाइनिंग अ न्यू एरा (नए युग की खोज)’ रखा गया है।


Source link

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *