HTLS 2020 : कोरोना महामारी के बीच मेंटल हेल्थ के सबसे अधिक मामले, जानें हावर्ड मेडिकल स्कूल के प्रोफेसर विक्रम पटेल ने मेंटल हेल्थ पर क्या कहा 

Spread the love

हिन्दुस्तान टाइम्स लीडरशिप समिट 2020 के आठवें दिन हावर्ड मेडिकल स्कूल के ग्लोबल हेल्थ प्रोफेसर विक्रम पटेल करोना महामारी और इसके असर की चर्चा की। प्रोफेसर पटेल ने बताया कि कोरोना महामारी का असर हर देश पर पड़ा है। इस दौर में हम दूसरी बीमारियों से ग्रस्त लोगों को नजरअंदाज कर रहे हैं, जिससे उन बीमारियों से मृत्युदर बढ़ गई है। हम हेल्थकेयर सिस्टम को बंद नहीं कर सकते हैं, बल्कि कोविड-19 के लिए उनकी क्षमता बढ़ानी होगी। साथ ही कई नकारात्मक प्रभावों के साथ मानसिक स्वास्थय पर प्रभाव सबसे बड़ा पहलू है, जिसपर ध्यान देने की जरुरत है। 

कई देशों से डेटा आ रहे हैं, जिनमें भारत और बांग्लादेश शामिल हैं, लोग तनाव और इससे जुड़ी समस्याओं का सामना कर रहे हैं। अनिश्चितता के माहौल से सबके मानिसक स्वास्थ्य पर असर पड़ रहा है, क्या यह बीमारी के रूप में बदल जाएगा यह देखना होगा। ऐसे में बहुत से ऐसे कदम उठाने की जरुरत है जिससे कि एक और वैश्विक बीमारी का सामना हमें न करना पड़े। 

भारत में मानसिक समस्याओं से ग्रस्त लोगों को पागल कह दिया जाता है, पुलिस उन्हें बांधकर उन मेंटल हॉस्पिटलों में में ले जाती है, जो अंग्रेजों के समय के बने हुए हैं और उनकी स्थिति बेहद खराब है। उन अस्पतालों की सुध लेने के साथ वहां इलाज के तरीकों को बदलने की जरुरत है।  वहीं, अगर तुलनात्मक रूप से देखें, तो पिछले एक दशक में वहां काफी बदलाव आया है। इसको लेकर भ्रांतियों में कमी आ रही है। वहीं मीडिया की रिपोर्टिंग पहले के मुकाबले बहुत ही संवेदनशील है। इससे जूझ रहे लोगों के प्रति भी लोग सहानुभूति रख रहे हैं, जिससे सकारात्मक बदलाव के रूप में देखा जा सकता है।

मानसिक रोगों से निपटने के लिए प्रोफेसर पटेल ने कहा कि सामाजिक दूरी बनाए रखते हुए खेल-कूद में हिस्सा लेना, एक-दूसरे से बातें करना, अच्छी किताबें और शो देखना काफी हद तक कारगर हैं। वहीं, उन्होंने जल्दी से स्कूल खुलने की इच्छा जताते हुए कहा ‘स्कूल जल्द खुलने चाहिएं, नहीं तो स्टूडेंट्स पर कोविड-19 का बहुत बुरा असर होगा।

 


Source link

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *